कम से कम उम्मीदों की लाश तो देखनी नहीं पड़ती केजरीवाल साहब!

Share it