क्रूरता पर क्यों नहीं खौला ख़ून?-30री नज़र

Share it