बेअसर ‘फरारी मंत्र’, प्रजापति को जाना होगा जेल, सुप्रीम याचिका खारिज

पुलिस ने भी मानी राजनीतिक दबाव की बात, मुख्यमंत्री की चुप्पी

0
66

गैंगरेप के आरोपी और अखिलेश सरकार के मंत्री गायत्री प्रजापति को सुप्रीम कोर्ट ने राहत नहीं दी। गिरफ्तारी और एफआईआर पर रोक लगाने की याचिका सर्वोच्च अदालत ने खारिज कर दी है। फरार चल रहे प्रजापति ने इस मामले को अपने खिलाफ राजनीति से प्रेरित बताया था, लेकिन अदालत ने उनकी दलील नहीं सुनी। अब गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी तय हो गयी है।

मंत्री बने रहने का यही था गायत्री ‘मंत्र’!

इससे पहले उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से चिट्ठी लिखकर पूछा था कि गायत्री प्रजापति को मंत्रिमंडल से बर्खास्त क्यों नहीं किया जा रहा है। खुद पुलिस अधिकारी भी दबी जुबान में मान रहे हैं कि राजनीतिक दबाव के कारण गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी नहीं हो पा रही है। सत्ता के खास मंत्र का जाप करते रहे गायत्री प्रजापति का इस्तीफा या बर्खास्तगी नहीं हो पा रही है। इस पर सियासत भी गरम रही है।

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस सीकरी अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि वह अपने आदेश में कोई बदलाव नहीं करेंगे। महिला को ब्लैकमेलर बताते हुए रियायत की याचिका पर कुछ भी सुनने से अदालत ने साफ मना कर दिया और कहा कि उन्हें संबंधित अदालत में ही जाना होगा।

आपको याद दिला दें कि फरियादी की याचिका पर अदालत के निर्देश के बाद ही गायत्री प्रजापति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गयी थी। गायत्री प्रजापति अमेठी से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। यहीं से अखिलेश यादव ने चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत की थी। बहुत ताकतवर मंत्री माने जाते हैं गायत्री प्रजापति। अखिलेश यादव ने उन्हें दो बार मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया, लेकिन दोनों बार उन्हें वापस लेना पड़ा। अब जबकि एक बार फिर बर्खास्तगी के लिए आधार मौजूद है, अखिलेश यादव कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं, जबकि गायत्री प्रजापति फरार हैं।

गायत्री प्रजापति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अखिलेश यादव पर बार-बार निशाना साधा। ये भी कहा गया कि बीजेपी गायत्री मंत्र जपती है जबकि समाजवादी गायत्री प्रजापति मंत्र जपती है।

गायत्री प्रजापति के खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी किया जा चुका है। उनका पासपोर्ट भी जब्त कर लिया गया है। एयरपोर्ट से लेकर रेलवे स्टेशन समेत आने-जाने वाले सड़क मार्ग पर भी पुलिस नजर रख रही है।

लिखें अपने विचार