पूरब का होगा विकास तभी यूपी भी होगा उत्तम प्रदेश- मोदी

वाराणसी में पीएम मोदी ने प्रबुद्ध वर्ग को भी संबोधित किया

0
58

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में लगातार दूसरे दिन रोड शो के बाद रैली की और पूरे काशी को भगवा रंग में रंग दिया। प्रधानमंत्री ने हर हर महादेव के नारे के साथ रैली की शुरूआत की और कहा कि सबका साथ, सबका विकास ही उनका नारा है। विरोधियों पर हमला करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सपा-बसपा-कांग्रेस का नारा उल्टा है- कुछ का साथ, कुछ का विकास।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनका सपना है कि 2020 तक हर गरीब के पास अपना घर हो। इसके लिए उन्होंने यूपी से 30 लाख लोगों की लिस्ट मांगी, लेकिन यूपी के सीएम 15 हजार नाम ही दे पाए। श्री मोदी ने कहा कि जो सरकार इतनी लापरवाह हो, उसे गद्दी पर बैठे रहने का हक नहीं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मोतियाबिंद की बीमारी की तरह यहां कुछ नेताओं को वोट बिंद हो गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग सिर्फ वोट को ध्यान में रखकर ही सबकुछ करते हैं। श्री मोदी ने कहा कि जनता के सच्चे सेवक को चाहिए कि वो केवल काम पर ध्यान दें, वोट और चुनाव तो आते-जाते रहते हैं। काम करेंगे तो लोगों का साथ ऐसे ही मिल जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के पूर्वी भाग के विकास के बिना हिंदुस्तान का विकास नहीं हो सकता। श्री मोदी ने कहा कि अगर पूर्वांचल का विकास सही तरीके से होगा तो उत्तर प्रदेश को भी विकास की यात्रा में हिन्दुस्तान में नंबर एक बनने में देर नहीं लगेगी।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, पूर्वांचल में औद्योगिक विकास की पूरी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि वे गैस पाइप लाइन गुजरात से लेकर गोरखपुर तक आ रहे हैं। इसी गैस से यहां उद्योग धंधों का विकास होगा और लोगों को रोजगार मिलेगा। श्री मोदी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश को देश के बाकी हिस्सों से जोडने की कोशिश का भी जिक्र किया।

प्रधानमंत्री ने कहा, पूर्वांचल में फर्टिलाइजर कारखाना, एम्स, ट्रॉमा सेंटर, कैंसर सेंटर जैसी योजनाएं पूर्वी भारत को ताकत देने वाली हैं। श्री मोदी ने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों में सामर्थ्य है और यहां के लोग परिश्रमी हैं। इसके अलावा यहां पर विपुल मात्रा में प्राकृतिक संपदा है, उपजाऊ भूमि है।

श्री मोदी ने कहा कि काशी के बुनकर दुनिया में नई मार्केट खड़ी कर सकते हैं। ये बाजार हस्तकरघा से बने उत्पादों के लिए होगा। उन्होंने खास तौर पर मुद्रा योजना के तहत छोटे कामगारों को दी जा रही सहायता का भी जिक्र किया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बनारस के धार्मिक-सांस्कृतिक महत्व का जिक्र करते हुए कहा, ‘’ये सिर्फ शहर नहीं है, ये जीती जागती सांस्कृतिक विरासत है। बनारस एक असीम इच्छाशक्ति, सामर्थ्य से भरा हुआ और संस्कार धारा से पुलकित शहर है।‘’ श्री मोदी ने कहा कि किसी को मक्का जाने का मन करता है तो किसी को रोम जाने का लेकिन हिंदुस्तान के सवा सौ करोड़ लोगों को बनारस आने का मन करता है।

बनारस के सांसद होने के नाते वे बिजली के तारों को भूमिगत करने के लिए काम करने की भी बात प्रधानमंत्री ने की। तीन सौ किलोमीटर में से सौ किलोमीटर तारों को भूमिगत कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि रिंग रोड, वाराणसी-गोरखपुर रोड, वाराणसी-सुल्तानपुर रोड के लिए 11 हजार करोड़ रुपयों का आवंटन कर दिया गया है और ये योजनाएं जल्दी ही पूरी हो जाएंगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पर्यटन उद्योग ऐसा उद्योग है जो बिना पूंजी के भी आगे बढ़ता है। इसलिए वे इसे बढ़ावा देना चाहते हैं। श्री मोदी ने कहा कि गंगा घाट का काम हो, सफाई का काम हो, बिजली के तारों को अंडरग्राउंड करने का काम हो, ये सारी चीजें टूरिज्म को बढ़ावा देने वाली हैं।

लिखें अपने विचार