मोदीमय हुई काशी

0
87

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार दूसरे दिन काशी की जनता के बीच रोड शो किया, जिसे उन्होंने ‘जनता का दर्शन’ नाम दिया है। इस जनता दर्शन में बकौल प्रधानमंत्री काशी की जनता ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया है। 5 किलोमीटर चली इस यात्रा में जबरदस्त भीड़ रही।

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन प्रधानमंत्री ज्यादा विश्वस्त नजर आए। उन्होंने इस तरह जनता के आशीर्वाद को अंगीकार किया मानो वे काशी की जनता के बेटे हों।

प्रधानमंत्री की यात्रा का आगाज पुलिस लाइन से हुआ। पहला पड़ाव पांडेयपुर रहा। भीड़ ने कभी प्रधानमंत्री को निराश नहीं किया। उनके हाथ लगातार कभी लेफ्ट, कभी राइट जनता के अभिवादन में उठते रहे।

प्रधानमंत्री ने जनता का अभिवादन स्वीकार कर उनकी ओर पुष्प वर्षा की। जनता ने भी लगातार खुली जीप में उन पर फूल बिखेरे। प्रधानमंत्री की इस पूरी यात्रा के दौरान तिल भर जगह नहीं दिखी।

बैनर, पोस्टर, कटआउट्स दिखाकर लोग अपने सांसद और प्रधानमंत्री का स्वागत कर रहे थे। ‘जनता दर्शन’ यात्रा चौकाघाट, तेलियाबाग, पटेल धर्मशाला होते हुए मलदहिया में खत्म हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लगातार दूसरे दिन चुनाव प्रचार को जहां विरोधी उनकी कमजोरी बता रहे हैं, वहीं बीजेपी का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक कार्यकर्ता होने के साथ-साथ वाराणसी के सांसद होने का कर्तव्य भी निभाया है।

वहीं, जनता दर्शन की जरबरदस्त सफलता के बाद कई लोगों का ऐसा मानना भी है कि सूबे में बीजेपी की स्थिति अगर थोड़े समय के लिए कमजोर भी नजर आयी तो इसके लिए बीजेपी जिम्मेदार है, प्रधानमंत्री नहीं। ऐसे लोगों का मानना है कि बीजेपी के पास खेलने के लिए जब मोदी कार्ड है तो उसे खेलने में देरी क्यों की गयी। हालांकि वो ये भी कह रहे हैं कि देर से ही सही मोदी कार्ड ने पूरे पूर्वांचल का राजनीतिक रंग भगवामय कर दिया है।

लिखें अपने विचार