ईश्वर ने सबूत दे दिया, काशी को नहीं मिलती 24 घंटे बिजली- मोदी

0
67

प्रधानमंत्री ने काशी में एक बार फिर बिजली का मुद्दा छेड़कर अपने अखिलेश सरकार पर हमला बोला। काशी में 24 घंटे बिजली नहीं मिलने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि इसे साबित करने के लिए उन्हें गंगा की सौगंध खाने की जरूरत नहीं है। खुद ईश्वर ने सबूत दे दिया है। श्री मोदी ने कहा, “जो रोज झूठ बोलते थे, जब वो मंदिर जा रहे थे बिजली चली गयी।”

पीएम ने चुनाव आयोग से गिला-शिकवा की

प्रधानमंत्री ने लोकसभा चुनाव के दौरान काशी की जनता के साथ संवाद नहीं करने देने के लिए चुनाव आयोग से अपनी शिकायत का इजहार किया। उन्होंने कहा कि न जाने किसके दबाव में आकर के उन्हें सभा करने की दी हुई परमिशन भी तब वापस ले ली गयी थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि वे एक कार्यकर्ता के नाते विधानसभा चुनाव में काम करने पहुंचे हैं।

यूपी में आए बीजेपी तो सपने होंगे पूरे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यूपी में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी तो काशी के लिए उनके सपनों को पूरा करने में कोई रुकावट नहीं आएगी। उन्होंने चुनाव को लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व बताते हुए कहा कि अगर लोकतंत्र ताकतवर होगी, तो इससे बनने वाली सरकारें भी ताकत के साथ काम करने में जुट जाएंगी।

आत्मा बचाते हुए काशी का कायाकल्प होगा

प्रधानमंत्री ने काशी को मानव इतिहास का सबसे पुराना नगर बताते हुए कहा कि काशी शहर में मां गंगा है, भोले बाबा हैं, अनेक तीर्थ हैं। यहां से ऐतिहासिक महापुरुषों की गाथाएं जुड़ी हैं। श्री मोदी ने कहा, “काशी की आत्मा को बनाए रखते हुए काशी का कायाकल्प करना है।

काशी को विरासत भी चाहिए, वाईफाई भी

प्रधानमंत्री ने कहा कि वो ऐसा बनारस शहर चाहते हैं जिसमें विरासत भी हो, वाईफाई भी हो। सांस्कृतिक चेतना भी हो, सफाई भी हो। पीएम मोदी ने कहा कि काशी महज नगर नहीं, मानव जाति के लिए संदेश है, मानवता का प्रतीक है। उन्होंने काशी की शानो शौकत को वापस लाने के लिए मिलकर काम करने की अपील की।

बदल रही है काशी की तस्वीर

प्रधानमंत्री मोदी ने काशीवासियों से कहा कि जिस रिंग रोड का काम वर्षों से अटका पड़ा था, वो अब शुरू हो चुका है। एयरपोर्ट से शहर आने वाली सड़क भी फोर लेन हो रही है। श्री मोदी ने कहा कि बुनकरों की स्थिति सुधारने के लिए भी पहल हो चुकी है, काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि काशी को तारों के झुंड से मुक्ति दिलाने के उनके वादे पर भी काम हो रहा है। तारों को अंडरग्राउंड करने पर 600 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किया गया है।

ईमानदार भुगत रहे हैं सज़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिजली के ट्रांसमिशन लॉस की चर्चा करते हुए कहा कि इसका बोझ ईमानदार भुगत रहे हैं। बिजली के सबस्टेशन बनाने की बात करते हुए श्री मोदी ने कहा कि काशी के लोगों को 24 घंटे बिजली मिलेगी।

बनारस से जुडे रेल लाइन का विकास शुरू

प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी से जुडे तीनों स्टेशनों के विकास का काम चल रहा है। इतना ही नहीं बनारस से आजमगढ़, बनारस से गोरखपुर, बनारस से सुल्तानगंज, बनारस से औरंगाबाद के लिए रेल के विकास पर करीब साढ़े तीन सौ करोड़ की लागत से काम प्रगति पर है।

बदल रहा है काशी का इन्फ्रास्ट्रक्चर

प्रधानमंत्री ने कहा कि चाहे रेल हो, रोड हो, सड़क हो, बिजली हो, पानी हो या फिर भविष्य की दृष्टि से ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क, गैस पाइप का नेटवर्क, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेन्ट – हर स्तर पर काम जोरों से चल रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि जबसे काशी ने मुझे सेवा करने का मौका दिया, तबसे काशी के इन्फ्रास्ट्रक्चर को महत्व दिया है, जिससे लोगों का जीवन सुधरे।

हेल्थ हब बन रहा है पूर्वी उत्तर प्रदेश

प्रधानमंत्री मोदी कहा कि पूरे पूर्वी भारत को हेल्थ का एक पूरा हब बनाने की दिशा में काम आगे बढ़ रहा है। बनारस, गोरखपुर, इलाहाबाद सभी जगहों पर आरोग्य की दृष्टि से विकास हो रहा है। श्री मोदी ने कहा कि बनारस में ट्रॉमा सेन्टर, गोरखपुर में एम्स, इलाहाबाद में अस्पताल का आधुनिकीकरण का काम जारी है। 4000 सीट पीजी डॉक्टरों के लिए तय कर दी गयी है। उन्होंने आगे कहा कि 5 साल में डॉक्टर निकलने की चेन चल पड़ेगी। हमें ज्यादा से ज्यादा डॉक्टर मिलेंगे।

गरीब रोगियों को मिल रही है सस्ती दवा

प्रधानमंत्री ने कहा कि रोगियों को सस्ती दवाई के लिए जो अमृत योजना चल रही है उसमें 70 फीसदी रियायत पर गरीबों को दवा दी जा रही है। एक युवक के अनुभव का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि उसके माता-पिता की दवा पर जहां हर महीने 6500 रुपये से ज्यादा खर्च आता था, अब 700 रुपये खर्च आ रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की कोशिश से 800 दवाओं की कीमत कम हो गयी हैं। महंगी दवाएं अब सस्ती हो गयी हैं। उन्होंने कहा कि हृदय रोगियों के लिए स्टेंट की कीमत भी 45 हजार से घटकर 7 हजार पर आ गयी है वहीं विदेशी स्टेंट भी सवा लाख की जगह अब 25-26 हजार रुपये में मिलने लगा है।

यूपी बना शर्मनाक उदाहरण

प्रधानमंत्री ने खुले शौचालय से यूपी को मुक्त कराने की जरूरत बताते हुए कहा कि यह शर्मनाक है कि देश के 500 शहर खुले शौचालय से मुक्त घोषित हुए, लेकिन उनमें एक भी यूपी का नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार पैसा देने को तैयार है, पर राज्य सरकार को भी काम करने की जिम्मेदारी लेनी होगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम देश के सबसे बड़े राज्य को तबाह होने नहीं देंगे।

लिखें अपने विचार