मतदान शुरू, ‘मूंछ की लड़ाई’ का दंगल बनी बीएमसी

फडणवीस-उद्धव के बीच ‘प्रतिष्ठा की लड़ाई’

0
51

देश की सबसे अमीर महानगरपालिका बीएमसी यानी बृहन्मुम्बई म्यूनिसिपेलिटी कॉरपोरेशन के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। 227 सीटों पर वोट देने का काम जारी है जिसके लिए 2275 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। महाराष्ट्र के 9 नगर निगम और 11 जिला परिषदों के लिए भी जनता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रही है। 23 फरवरी को चुनाव नतीजे आएंगे।

मुम्बई, ठाणे, पुणे, नासिक समेत 10 महानगर पालिका 11 जिला परिषदों के लिए सुबह 7.30 बजे से वोट डाले जा रहे हैं। शिवसेना और बीजेपी गठबंधन तोड़कर बीएमसी पर कब्जे के लिए चुनाव मैदान में हैं। वहीं, एनसीपी मौके का फायदा उठाने की कोशिश में है। कांग्रेस भी अपनी मौजदूगी बेहतर करने की कोशिश में है।

बीएमसी चुनाव के दौरान बीजेपी और शिवसेना में वाकयुद्ध तेज दिखा। वास्तव में ये लड़ाई मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे के बीच ‘प्रतिष्ठा की लड़ाई’ में बदल गयी है।

गठबंधन तोड़कर चुनाव मैदान में उतरी बीजेपी और शिवसेना दोनों तीखी लड़ाई में भिड़ती नज़र आयी। देश के सबसे अमीर नगर निगम पर कब्जा करने के लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पूरा जोर लगा रहे हैं और अभियान के दौरान उद्धव ठाकरे पर उन्होंने निर्ममता से प्रहार किया। फडणवीस ने उद्धव ठाकरे पर ये गम्भीर आरोप लगा डाला कि बीएमसी से ही शिवसेना चलती है। इसलिए उन्हें पारदर्शिता की जरूरत नहीं है। यही वजह है कि उन्होंने गठबंधन तोड़ा है।

बीजेपी ने शिवसेना से ये खुलासा करने की चुनौती दे डाली कि वो बताएं कि उन्हें कितनी सीटें मिलने का अंदाजा है, जबकि बीजेपी कह रही है कि वो अपने इस दावे पर कायम हैं कि उन्हें 114 सीटें मिलने वाली है। 227 सदस्यों वाली महानगरपालिका में यह आंकड़ा बहुमत का है।

वहीं शिवसेना ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर चुनाव आचार संहिता तोड़ने का आरोप लगाया है। शिवसेना ने मुख्यमंत्री पर मीडिया में इंटरव्यू देने की शिकायत पार्टी ने चुनाव आयोग से की है। पार्टी ने इसे सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग बताया है।

 

लिखें अपने विचार